HomeBulane ka nahiBulane ka nahi || hindi shayari

Bulane ka nahi || hindi shayari

Magar bulane ka nahi

Hindi shayari | Sad shayari

लौट कर आएगी 

मगर बुलाने का नहीं

Laut kar ayegi
magar bulane ka nahi
तोडा है उसने मेरे दिल को
फिर दोबारा सजाने का नहीं
Toda hai usane mere dil ko
fir dubara sajane ka nahi

टूट कर बिखर गए वो सारे सपने
उन्हें फिर सजाने का नहीं

Tut ka bikhar gaye wo saare sapane
unhe fir sjane ka nahi

लौट कर आएगी 
मगर बुलाने का नहीं

Laut kar ayegi
magar bulane ka nahi

जब भुला ही दिया है उस बेवफा को
तो फिर जालिम  दिल लगाने का नहीं

Jab bhula hi diya hai us bewafa ko
to fir jaalim se Dillagane ka nahi

लौट कर आएगी 
मगर बुलाने का नहीं

Laut kar ayegi
magar bulane ka nahi
RELATED ARTICLES
- Advertisment -