HomeRahat-Indori-Shayari-HindiFamous Dr. Rahat Indori ke sher Hindi me

Famous Dr. Rahat Indori ke sher Hindi me

 Rahat Indori ke Sher

Rahat indori famous shayari image
नदी किनारे आ पहुचे है , रहबर वहबर सब
टूट चुकी बस्ती वस्ती, लंगर वंगर सब
जिस दिन से तुम रूठी , मुझसे रूठे रूठे है
चादर वादर तकिया वाकिया सब
मुझसे बिछड़ के वो भी कहाँ पहले जैसी है 
फीके पड गए कपडे वपड़े , जेवर वेवर सब
Nadi kinare aa pahuche hai , Rahabr Wahbar sab
Tut chuki basti wasti, Langar wangar sab,
Jis din se tum ruth, Mujhase ruthe ruthe hai
Chadar wadar takiya wakiya sab
Mujhase bichhad ke wo bhi kaha pahale jaisi hai
Phike pad gaye kapade wapade, Jewar wewar sab
Rahat indori famous shayari image
सिर्फ खंजर ही नहीं , मुझे आँखों में पानी चाहिए 
ऐ खुदा मुझे दुश्मन भी खानदानी चाहिए 
Sir Khanjar hi nahi, Mujhe ankho me pani chaiye
Ai khuda mujhe dusman bhi khandani chahiye

Rahat Indori Famous Shayari

Rahat indori famous shayari image
फूल की दूकान करो 
खुसबू का ब्यापार करो 
इश्क खता है तो 
ये खता बार बार करो 
Phoolo ki dukane karo, 
Khusaboo ka byapar karo
Ishq Khata hai to
Ye khata baar baar karo

Rahat Indori Love Shayari 2 Line

Rahat indori famous shayari image
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है 
और जो जुर्म करते है वो इतने बुरे नहीं होते 
सजा न देकर ये अदालत बिगाड़ देती है 
Kabutaron ko khuli chhat bigaad deti hai
Aur jo jurm karate hai itane bure nahi hai
Saja na dekar ye adalat bigad deti hai 

Rahat Indori Hindi Shayari

Rahat indori famous shayari image
अब अपने लहजे नरमी बहुत ज्यादा है
नयी बर्ष में नयी जंग का इरादा है 
और मैं अपनी लाश लिए फिर रहा हूँ कंधे पर
यहाँ जमीन की कीमत बहुत ज्यादा है 
Ab apane lahje narmi bahut jyada hai
Nayi barsh me nayi jang ka iarada hai
Aur mai apani lash liye phir raha hu kandhe par
Yaha jameen ki kimat bahut jyada hai 

Rahat Indori Attitude Shayari

Rahat indori famous shayari image
अड़े थे जिद्द पर 
सूरज बना के छोड़ेंगे 
पसीने छुट गए दिया बनाने में 
मेरी निगाह में वो शख्स आदमी भी नहीं  
जिसे लगा है जमाना खुदा बनाने में 
Ade the jidd pe ki
Suraj bana ke chhodenge
Pasine chhut gaye diya banane me
Meri nigah me wo shakhs adami bhi nahi
Jise laga hai jamana khuda banane me
इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है 
नीद कमरों में जगी है, ख्वाब छत पर बिखरे है 
In raato se apana rista jane kaisa rista hai
Nid kamaro me jagi hai, Khwab chhat par bikhare hai
मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए 
और सभी लोग यही आके फिसलते क्यों है 
Mod hota hai jawani ka sambhalane ke liye
Aur sabhi log yahi aake fisalate kyu hai
Pages  1  2  3  4  5  6  7
RELATED ARTICLES
- Advertisment -