HomeRahat-Indori-Shayari-HindiRahat Indori Top 10 Shayari in Hindi | Rahat IndoriShayari 4...

Rahat Indori Top 10 Shayari in Hindi | Rahat IndoriShayari 4 line

Rahat Indori Shayari 4 Line

हैलो दोस्तों स्वागत है आपका Sayariadda.in पर , दोस्तों राहत इंदौरी जी हमारी सदी की बहुत ही मशहूर शायर थे |हम उनका तहे दिल से शुक्रिया अदा करते हैं कि उन्होंने इतने बेहतरीन शायरी हमें दिये हैं | हमने इस पोस्ट में राहत इंदौरी जी द्वारा लिखी कुछ शायरी साझा की है | हम आशा करते हैं कि आपको हमारी पोस्ट बहुत पसंद आयेगा|

Rahat Indori Shayari

जुबां तो खोल
नज़र तो मिला
जवाब तो दे
तेरी बदन की लिखावट में
उतार चढ़ाव बहुत है
मैं तुझे कैसे पढुंगा
मुझे किताब तो दे
Juba to khol
Nazar to mila
Jawab to de
Mai kitani baar kuta hu
Mujhe hisaab to de
Teri badan ki Likhawat me
Utaar chadaw bahut hai
Mai tujhako kaise padhunga
Mujhe kitaab to de

Rahat Indori Shayari in Hindi Love

Rahat Indori shayari hindi inage
अब जो बाजार में रखे हो तो हैरत क्या है
जो भी देखेगा पूछेगा कि मत क्या है
एक ही बर्थ पे दो साये सफर करते रहे
मैंने कल ये जाना जन्नत क्या है
Ab jo bazar me rakhe ho to hairat kya hai
Jo bhi dekhega puchhega kimat kya hai
Ek hi birth pe do saaye safar karate rahe
Maine kal ye jana Jannat kya hai

Rahat Indori Shayari 4 Line

Rahat Indori shayri image
गुलाब, खास, दवा, ज़हर, जाम
क्या क्या है
मैं आ गया हूँ बता इंतजाम
क्या क्या है
Gulab, Khaab, Dawa, Jahar, Jaam
Kya kya hai
Mai aa gaya hu bata intjaam 
Kya kya hai

Kisane Dastak di Dil par

किसने दस्तक दी दिल पर
कौन‌ है….
आप तो अंदर हैं
बाहर कोन है…
Kisane Dastak di Dil par
Kaun Hai…
Aap to andar hai
Bahar kaun hai…

Rahat Indori Shayari 4 Line

मैं जब मर जाऊं
तो मेरी ‌एक अलग पहचान लिख‌ देना
लहू से मेरी पेशानी पे
हिंदुस्तान लिख‌ देना
Mai jab mar jau 
To meri alag pehchan likh dena
Lahu se meri pesani pe
Hindustan likh dena

Rahat Indori Shayari in Hindi Love

इश्क‌ में जीत के आने के लिए
मै काफी हूँ
मै अकेला ही इस जमाने के लिए काफी हूँ
सिर्फ एक बार मेरी निंद का‌ ये जाल कटे
जगाने के लिए काफी हूँ
Isq me jeet ke aane ke liye
Mai kaafi hu..
Mai akela hi is jamane ke liye kaafi hu
Sirf ek baar meri nid ka ye Jaal kate to
Jagane ke liye kafi hu

Rahat Indori Top Shayari

तुफान से आँख मिलाओ
सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो
तैर कर दरिया पार करो
Tufan se ankh milao
Sailabo par war karo
Mallaho ka chakkar chhodo
Tair kar dariya par karo

Rahat Indori 2 line Shayari

Rahat Indori Shayari
लोग हर मोड़ पर रुक रुक के संभलते क्यूँ हैं
इतना डरते हैं तो निकलते क्यूँ हैं
Log har mod par ruk ruk ke sambhalte kyu hai
Itana darate hai to nikalte kyu hai

Rahat Indori 2 line Shayari

रोज तारों को नुमाइश में खलल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में भी निकल पड़ता है
Roj Taro ko numaish me khalal padata hai
Chaand pagal hai andhere me bhi nikal padata hai

Pages   2  3  4  5  6  7
RELATED ARTICLES
- Advertisment -